खुश नसीब होते हैं बादल

खुश नसीब होते हैं बादल;
जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं;
और एक बदनसीब हम हैं;
जो एक ही दुनिया में रहकर भी;
मिलने को तरसते हैं!!