बँटी – डाक्टर साहब दस्त ने बेहाल कर रखा है

बँटी :- डाक्टर साहब दस्त ने बेहाल कर रखा है…

डाक्टर :- कितना पतला आता है…?

बँटी :- समझ लो कि आप उस से कुल्ला कर सकते हो…!!!

दामाद जी कल आपके साले के लिए

ससुर फ़ोन पर :- दामाद जी कल आपके साले के लिए
लड़की देखने जा रहे हैं, हो सके तो आप भी चलिए साथ….

दामाद :- आप लोग ही देख आओ, मेरा तो खुद का
Decision गलत हुआ पड़ा है!!
😛 😛 😛 😛 😛 😛 😛

एक दोस्त – और क्या चल रहा ह लाइफ में

एक दोस्त :- और क्या चल रहा ह लाइफ में…??
दूसरा दोस्त :- घषध्दब्रह्शवज्वबब्द ।
पहला दोस्त :- कुछ समझ नहीं आ रहा…??
दूसरा दोस्त :- हां बस यही चल रहा है…

दोस्तों मैंने एक कविता लिखी है

दोस्तों मैंने एक कविता लिखी है…
जरा गौर फरमाइयेगा…
कविता का नाम है – “दो बूंद”… टपकटपक
The End… कविता पढ़ने के लिये धन्यवाद…
उम्मीद है कि पसंद आई होगी…

अगर बढ़ती उम्र में इश्क हो तो ताज्जूब ना कर ऐ गालिब

अगर बढ़ती उम्र में इश्क हो तो ताज्जूब ना कर ऐ गालिब.
आखिर पुरानी गेंदे ही तो रिवर्स स्विंग लेती है…

कौन कहते है कि बूढ़े इश्क नहीं करते
बूढ़े इश्क तो करते है, पर कोई उन पर शक नहीं करते।

आदमी कितना भी व्यस्त क्यों न हो

आदमी कितना भी व्यस्त क्यों न हो
फिर भी बाजू से जाती हुई,

खूबसूरत लड़की को देखने के लिये.
वो टाईम तो निकाल ही लेता है

इसे कहते है इंसानियत…

कृपया कमजोर दिल वाले इसे न पढ़े

कृपया कमजोर दिल वाले इसे न पढ़े

खिड़की से देखा तो सामने कोई नहीं था

खिड़की से देखा तो सामने कोई नहीं था…

फिर सामने से देखा तो खिड़की में कोई नहीं था…